पार्किंसंस का अर्थ (Parkinson’s disease meaning in Hindi)

अगर आपको पार्किंसंस रोग है, तो जरूर आपको Parkinson’s disease meaning in Hindi (पार्किंसंस का अर्थ) पता होना चाहिए!

मगर सच पूछिए तो सभी को ये पार्किंसंस के लक्षण पता होने चाहिए. कई बुज़ुर्ग लोगों को ये लक्षण होते है, मगर इनको नज़रअंदाज़ किया जाता है.

ये अफ़सोस की बात है. अगर आप सच में Parkinson’s disease meaning in Hindi (पार्किंसंस का अर्थ) जानेंगे, तो आप जानेंगे के पार्किंसंस का उपचार संभव है.

पार्किंसंस का अर्थ पूरी तरह समझने के लिए हमे ४ चीज़े जननी होगी:

१. पार्किंसंस रोग के लक्षण

२. पार्किंसंस रोग का कारण

३. पार्किंसंस के उपचार (दवाइयां)

४. पार्किंसंस के नए उपचार (डीप-ब्रेन-स्टिमुलेशन -DBS और स्टेम-सेल थेरेपी)

Parkinson's disease meaning in Hindi या पार्किंसंस का अर्थ
पार्किंसंस का अर्थ जानने के लिए, इसके ४ पहेलु जानना जरूरी है.

आइये पार्किंसंस का अर्थ [Parkinson’s disease meaning in Hindi] समझते है:

Tremor of Parkinson’s disease in Hindi – पार्किंसंस की कंपन

पार्किंसंस रोग के तीन मुख्य लक्षण जानना जरूरी है.

पार्किंसंस रोग के लक्षण
१ . हाथ-पांव की कंपन
२ . सभी कार्य, जैसे चलने-फिरने में धीमापन
३ . हाथ-पांव में जकड़न या सख्तपन

आइये, पाहिले पार्किंसंस की कंपन के बारे में बात करते है.

१. कंपन (ट्रेमर, Tremor)

हाथ में कंपन के कई कारन हो सकते है. सारे कारन जाने के लिए यहाँ दबाए.

पर यहाँ हम सिर्फ पार्किंसंस की कंपन के बारे में बात करेंगे.

पार्किंसंस से होने वाली कंपन जब आप आराम से बैठे हो तब भी होती है. ये उसकी ख़ास बात है. इसिलए पार्किंसंस की कंपन को “आराम की कंपन” या अंग्रेजी में “रेस्ट ट्रेमोर (rest tremor)” भी कहते है.

पार्किंसंस से होने वाली हाथों की कम्पन देखने के लिए, निचे वाला वीडियो चलाए:

पार्किंसंस की कंपन हाथो में नहीं, बल्कि पैरों में या सर में भी हो सकती है.

अक्सर पार्किंसंस की कंपन रिश्तेदारों को ध्यान में आती है.

सोचो मरीज़ टीवी देख रहा हो, और आराम से बैठा हो. तो बेटे को हाथ में कंपन दिखाई देती है! वह बोलता है:

बाबूजी !! आपके हाथ में कंपन क्यों है ??

ये कहानी मुझे बार-बार अपने क्लिनिक में सुनने मिलती है. ये है “आराम की कंपन” या “रेस्ट ट्रेमोर”. यही है पार्किंसंस की कंपन.

पार्किंसंस की कंपन का एक और उधारण देखने निचे वाला वीडियो चलाये. आप देखेंगे के इस व्यक्ति को ज़्यादा कंपन है.

Parkinson’s disease meaning in Hindi जानने की पहिली कड़ी है, पार्किंसंस की कंपन को पहचानना.

Symptoms of Parkinson’s disease in Hindi – पार्किंसन रोग के लक्षण

कंपन के आलावा, अन्य पार्किंसंस के लक्षण जानना भी जरूरी है.  ये लक्षण है:

२. धीमापन (ब्रेडी-कयनेसिआ, Bradykinesia):

मरीज़ का चलना-फिरना धीमा हो जाता है.

कभी-कभी रिश्तेदार इसका गलत अर्थ लगाते है. कभी-कभी रिश्तेदार मुझसे आके कहते है:

माँ जी अब बहोत आलसी हो गयी है! एक ही जगह पर बैठी रहती है!

ये आलस बिलकुल नहीं है. ये पार्किंसंस के लक्षण है. इस लक्षण को धीमापन, या फिर अंग्रेजी में “ब्रेडी-कयनेसिआ” कहते है.

पार्किंसन के मरीज़ अक्सर आगे झुककर चलते है. वो धीमे चलते है. दिशा बदलते वक़्त कभी कभी वह ज़मीन से चिपक जाते है, और कदम आगे नहीं बढ़ा सकते.

इस तरह की चलने के तकलीफे दर्शाने वाला ये वीडियो देखे:

३. सख्तपन (रिगिडीटी, Rigidity)

मरीज़ के हाथ पेअर सख्त हो जाते है. कभी कभी वो इतने सख्त हो जाते है के उनको हिलाना मुश्किल हो जाता है.

अक्सर मरीज़ खुद इस सख्तपन के बारे में शिकायत करता है.

मुझसे मरीज़ अक्सर कहते है:

डॉक्टर इस बाज़ू का हाथ और पैर दोनों ही बहोत भारी-भारी लगते है. चलते हुए पेअर उठाने में तकलीफ होती है!

Combing

हाथों या बाज़ुओं के सख्तपन की वजह से बाल सवर्ण आपके लिए मुश्किल हो सकता है.पार्किंसंस रोग के लक्षण की बात करे, तो ये तीन लक्षण सबसे महत्वपूर्ण है. पर पार्किंसंस के लक्षण विस्तार में जानने के लिए यहाँ दबाए [पार्किंसंस रोग के लक्षण].

Cause of Parkinson’s disease in Hindi – पार्किंसंस रोग का कारण

Parkinson’s disease meaning in Hindi या पार्किंसंस का अर्थ जानने के लिए, पार्किंसंस रोग का कारण पता होना जरूरी है.

तो फिर पार्किंसंस रोग क्यों होता है? पार्किंसंस रोग का कारन क्या है? आइये जानते है.

हमारा दिमाग के कई भाग होते है. ये भाग एक-दूसरे से इलेक्ट्रिसिटी और रसायनो के द्वारा बात करते है.

हमारे दिमाग के पिछले वाले हिस्से में एक ख़ास भाग होता है. इसे मिडब्रेन कहते है.

मिडब्रेन एक ख़ास रसायन बनता है. इस खास रसायन का नाम है डोपामाइन.

आम तोर पे, मिडब्रेन में बना हुआ डोपामाइन दिमाग के आगे वाले हिस्सों में जाता है. वहां डोपामाइन दिमाग के आगे वाले हिस्सों को उत्तेजित करता है.

midbrain dopamine
जो लाल रंग में है, दिमाग के उस भाग को मिड-ब्रेन कहते है. मिडब्रेन डोपामिन बनाकर दिमाग के आगे वाले हिस्सों में भेजता है.

फिर दिमाग के आगे वाले हिस्से आदमी को चलने-फिरने में मदत करते है. इन आगे वाले हिस्सों का काम जब सही हो, तो आदमी तेज़ी से चल-फिर सकता है. वो कहीं पे अटकता भी नहीं है, और उसके हाट में कंपन भी नहीं होती.

पार्किंसंस की बीमारी में मिडब्रेन का काम ख़राब हो जाता है. वो कम डोपामाइन बनता है.

ऐसा क्यों होता है, ये ठीक से दुनिया में कोई नहीं जानता. थोड़े लोगो में ये अनुवांशिक या genetic समस्यों के कारन ऐसा हो सकता है. मगर ज़्यादातर लोगो में ढूंढ़ने पर भी मिडब्रेन का काम ख़राब होने कोई कारण नहीं मिलता.

midbrain dopamine parkinsons
पार्किंसंस में मिडब्रेन के पेशियाँ मर जाती है, और डोपामिन की मात्रा काम हो जाती है.

जब डोपामाइन की मात्रा काम होती है, तो दिमाग के आगे वाले हिस्से काम काम करते है.

आदमी की गति-विधि धीमी हो जाती है. उसके हाथ में कंपन होने लगती है. उसके शरीर में सख्तपन आ जाता है. इसी बीमारी को डॉक्टर पार्किंसंस कहते है.

Parkinson’s disease meaning in Hindi – पार्किंसंस का अर्थ

तो फिर अब तक की बातो से आपको Parkinson’s disease meaning in Hindi – मतलब पार्किंसंस के अर्थ अछि तरह से समझ आया होगा.

पर सिर्फ Parkinson’s disease meaning in Hindi – मतलब पार्किंसंस के अर्थ जानना काफी नहीं है.

doctor 4229348 1920
Parkinson’s meaning in Hindi समझने की तीसरी कड़ी है पार्किंसंस के उपचार के बारे में जानना.

आइये, पार्किंसंस के उपचार के बारे में जानते है.

पर उससे पाहिले, क्या आप जानते है के थोड़ी दवाइयां ऐसी भी है जिनसे पार्किंसंस-जैसे लक्षण हो सकते है ???

Medications causing Parkinson’s disease in Hindi – पार्किंसंस जैसा रोग देने वाली दवाइयां

थोड़ी दवाइयां डोपामाइन को अपना काम करने से रोकती है. इन्हे डोपामाइन ब्लॉकर्स कहते है.

Receptor e1622319661273
डोपामाइन-ब्लॉकर (त्रिकोण) डोपामाइन (गोल) को दिमाग से चिपकने नहीं देते. इससे डोपामाइन काकाम हो नहीं पाता.

 

इन दवाइयों से आपको पार्किंसंस-जैसे लक्षण हो सकते है. अगर आपको पाहिले से पार्किंसंस है, तो आपके पार्किंसंस के लक्षण तेज़ी से बढ़ सकते है.

अगर इन दवाओं के इस्तेमाल के कारण किसी मरीज में पार्किंसनिज़्म है, तो इसे “ड्रग-इंड्यूस्ड पार्किंसनिज़्म” या “मेडिकेशन इंडिकेटेड पार्किंसनिज़्म” कहा जाता है.

ये रही पार्किंसंस रोग का कारन बनने वाली दवाइयों की सूचि:

दवाइयों का कामदवाइयों के नाम
1. मनोरोग से जुड़ी समस्याओं जैसे कि सिज़ोफ्रेनिया के लिए इस्तेमाल की जाने वाली कई दवायेंहेलोपरिडोल, रिस्पेराइडल, ओलंज़ापाइन, एरीपिप्र्जोल, ट्राइफ्लुपरजाइन और कई और दवाएं. क्लोज़ापाइन और क्वेटेपाइन आमतौर पर समस्याएं पैदा नहीं करती हैं.
2. मूड और डिप्रेशन के लिए कुछ दवाएंफ़्लुफनज़ाइन, ट्रानिकिपोरमाइन, लिथियम
3. कुछ उल्टी रोकने वाली दवाएंमेटोक्लोप्रमाइड, लेवोसुलपुराइड, डोमप्रिडोन की उच्च खुराक 30-40 मिलीग्राम / दिन, फ्लूनार्जाइन, कभी कभी सिनेरज़ाइन
4. कुछ दिल और ब्लड प्रेशर की दवाएंएमियोडेरोन, मिथाइल-डोपा

ऐसा नहीं है के ये दवाइयां देना किसी भी कीमत पर जायज़ नहीं है. कई लोगों को ऐसी बीमारियां होती है, के ये दवाइयां देनी पड़ती है.

मगर आपको अगर पाहिले से पार्किंसंस रोग है, तो इन दवाइयों से तो सके तो दूर ही रहे.

Treatment of Parkinson’s disease in Hindi – पार्किंसंस रोग के उपचार

पार्किंसंस रोग के उपचार के लिए आम-तोर इन ५ असरदार दवाइयों का उपयोग किया जाता है.

के उपचार ५ असरदार दवाइयां 2 e1622321061417
पार्किंसंस रोग का उपचार – ये ५ दवाइयां याद रखे.

 

१. लेवोडोपा:

ये दवाई दिमाग में जाती है, और वहां जाके डोपामाइन बन जाती है!

पार्किंसंस के उपचार में ये सबसे शक्तिशाली गोली है.

२. एंटाकैपोन:

इस दवाई को लेवोडोपा का दोस्त मनाइये. एंटाकैपोन से लेवोडोपा का असर ज़्यादा मिलता है, और ज़्यादा घंटो तक बना रहता है.

३. अमंताडाइन

ये है लेवोडोपा का दूसरा दोस्त.

पार्किंसंस रोग के कुछ मरीज़ों को कुछ वर्षों के बाद हाथ, पैर और गर्दन अति उत्तेजित हो कर ज़्यादा हिलने लगते है. ये अति-उत्तेजित हिलना कोई नाच की तरह लगता है, और ये लेवोडोपा लेने के बाद थोड़े समय तक बढ़ता है.

इस अति-उत्तेजित हिलने को डिस्कायनिसिआ (dyskinesia) कहते है. अमंताडाइन इस अत्ति-उत्तेजित हिलने को बहोत कम, और कई बार पूरी तरह से बंद कर देती है.

४. डोपामाइन एगोनिस्ट (प्रैमिपेक्सोल, रोपिरिनोल)

ये दवाइयां डोपामाइन की तरह दिखती है. इसलिए वह डोपामाइन का थोड़ा काम कर पाती है.

पर कई लोगों को इन देवियों से नींद आती है. थोड़ लोग इन दवाइयों से उत्तेजित हो सकते है. इसलिए, आम तोर पर में ये दवाइयां थोड़ी काम ही इस्तेमाल करता हूँ.

५. MAO-B एनटागोनिस्ट (रसगिलिन, सेसिलीन)

ये दवाइयां भी डोपामाइन का असर ज़्यादा करती है. पर ये एंटाकैपोन जितनी सक्षम नहीं होती.

इसलिए, आम तोर पे में इन दवाइयों का उपयोग भी कम ही करता हूँ.

पार्किंसंस की दवाइयों के बारे में विस्तार में पढ़ने के लिए इसी वेबसाइट पे लिखा ये लेख पढ़े [पार्किंसंस के उपचार – ५  असरदार दवाइयां].

New Treatments of Parkinson’s disease in Hindi – पार्किंसंस रोग नए उपचार

डीप-ब्रेन-स्टिमुलेशन

पार्किंसंस रोग नए उपचार की सूचि में डीप ब्रेन स्टिमुलेशन (DBS) का नाम पाहिले आता है.

DBS e1578942163505
डीप-ब्रेन-स्टिमुलेशन प्रणाली – बैटरी / पेसमेकर को छाती में त्वचा के नीचे रखा जाता है. दिमाग के अंदर जाने वाले तार को “इलेक्ट्रोड” कहा जाता है.

डीप-ब्रेन-स्टिमुलेशन (DBS) एक छोटीसी मशीन होती है. इस मशीन की बैटरी छाती के चमड़ी के निचे होती है. इस बैटरी से आने वाली दो बारीक वायर आपके दिमाग में जाती है.

ये वायर दिमाग को उत्तेजित करती है, और डोपामाइन की कमी से होने वाले कई लक्षणों को काम करती है.

पार्किंसंस रोग नए उपचार डीप-ब्रेन-स्टिमुलेशन (DBS) से काफी लोगों को जबरदस्त फायदा होता है. पर फिर भी ये पार्किंसंस पर चमत्कार इलाज नहीं है.

डीप-ब्रेन-स्टिमुलेशन (DBS) के बारे में विस्तार में पढ़ने के लिए यहाँ दबाए [पार्किंसंस रोग नए उपचार: डीप ब्रेन स्टिमुलेशन -पार्किंसंस का चमत्कार इलाज?]

स्टेम सेल थेरेपी

पार्किंसंस रोग नए उपचार की सूचि में एक उभरता नाम है स्टेम-सेल थेरेपी का.

स्टेम-सेल हमारे शरीर की ख़ास पेशियाँ होती है.

स्टेम-सेल बहोत साडी और पेशियाँ बना सकते है. इससे भी अचरज की बात है, के स्टेम-सेल शरीर की कोई भी पेशियाँ, कोई भी अंग बनाने की ताकत रखते है.

StemCells
स्टेम-सेल शरीर की कोई भी पेशी या अंग बना सकते है.

पर इन चमत्कारी पेशियों का उपयोग पार्किंसंस में कैसे करे, ये अब तक किसीको भी पता नहीं है.

इस विषय पर दुनिया भर के वैज्ञानिक संशोधन कर रहे है. मेरी आशा है के आने वाले सालों में, स्टेम-सेल थेरेपी पार्किंसंस का चमत्कार उपाय बन सकती है.

पर अभी वो समय आया नहीं आहे.

आज की तारीख (२०२१) में, मेरा आपसे अनुरोध रहेगा के आप स्टेम-सेल थेरेपी सिर्फ संशोधन के तौर पर, संशोधन की जगह पर, बिना पैसे के मोह से, वैज्ञानिकों की देख-रेख के निचे ही आज़माये.

पार्किंसंस के लक्षण जिन्हे लोग नज़रअंदाज़ करते है

चलने-फिरने की तकलीफ के आलावा, पार्किंसंस रोग के अन्य कई लक्षण होते है.

इन अन्य लक्षणों को अक्सर नज़रअंदाज़ किया जाता है. पर ऐसा करने से पार्किंसंस का उपचार आधा रह जाता है.

ये तकलीफे भी पार्किंसंस रोग के लक्षण है, ये पहचानना सबसे बड़ी बात है.

Constipated
पार्किंसंस से कब्ज (constipation) की तकलीफ हो सकती है.

इसिलए, इन में से थोड़े मुख्य लक्षणों की सूचि, और उपचारो के बारे में यहाँ जानकारी दे रहा हूँ:

पार्किंसंस के लक्षण (अन्य)इलाज
१.  सोचने और यादाश की तकलीफ (डिमेंशिया)दवाइयां

पार्किंसंस रोग और डेमेंटिया के बारे में एक अति-उत्तम लेख पढ़ने के लिए [ यहाँ दबाए ] 

२. कब्ज – संडास करने में तकलीफ  (constipation)– रोज़ योग्य मात्रा में पानी पिए.  अगर आपको ह्रदय या गुर्दे (किडनी) की तकलीफ नहीं है, तो आपको रोज़ ७-८ गिलास पानी की जारूरत होती है.

– रोज़ १-२ केले खाया करे. कच्ची सभियाँ और फल खाये.

– दिन में कम से कम १५ मिनिट चले. दिन बार लेते रहने से अच्छा कुर्सी पर बैठे.

३. रात को सपने में चिल्लाना (रेम बिहेवियर डिसऑर्डर – RBD)दवाइयां
४. दुख में रहना (Depression)दवाइयां

मनोचिकित्सक से बातचीत  (Counselling)

५. नींद ना आना, या फिर बार-बार टूट जानादवाइयां
६. अति-उत्तेजित होना या फिर ब्रहम (Hallucinations)पार्किंसंस की थोड़ी दवाइयां जैसे ट्राय-हेक्सी-फेनिडील (Pacitane) और अमंताडाइन से थोड़े लोगों को ब्रहम/दु:स्वप्न की तकलीफ हो सकती है.

इन दवाइयों को कम करने के बारे में, आपके डॉक्टर से बात करे.

५. बात करने में तकलीफ होना (Dysarthria)पार्किंसंस की दवाइयों की मात्रा बढ़ने की जरूरत हो सकती है.

स्पीच थेरेपिस्ट (Speech therapist) से ट्रेनिंग लेने से भी ये तकलीफ काम होती है.

६. खाना निगलने में तकलीफ (Dysphagia)ऊपर की तरह ही.
७. शारीरिक सम्बन्ध रखने में तकलीफ (Impotence)दवाइयां

इत्यादि…

Parkinson’s disease meaning in Hindi ( पार्किंसंस का अर्थ ) संक्षेप में:

१. सही तरह से पार्किंसंस का अर्थ जानने के लिए ४ पहेलु जानना जरुरी है: इसके लक्षण, कारण, उपचार, और नए उपचार.

२. तीन पार्किंसंस के लक्षण याद रखे: कंपन, धीमापन और सख्तपन.

३. हमने पांच पार्किंसंस की दवाइयों के बारे में बात की. इनमे सबसे शक्तिशाली है लेवोडोपा.

४. पार्किंसंस रोग नए उपचार में डीप-ब्रेन-स्टिमुलेशन (DBS) से जबरदस्त फायदा हो सकता है.

५. वर्त्तमान में (२०२१), स्टेम-सेल थेरेपी सिर्फ संशोधन के तोर पर जायज़ है.

६. यादाश की तकलीफ, रात को चिल्लाना, कब्ज इत्यादि भी पार्किंसंस के लक्षण ही है. इनपर उपचार उपलब्ध है.

 

पार्किंसंस की पूरी जानकारी: एक-एक कर के पढ़े

१. Tremors Meaning in Hindi [ हाथ-पांव की कंपन का मतलब और कारण! ]
२. Parkinson's Meaning in Hindi [ पार्किंसंस रोग का अर्थ ]
३. Parkinson’s symptoms in Hindi [पार्किंसंस रोग के लक्षण]
४. Parkinson's treatment in Hindi [पार्किंसंस का उपचार]
५. Parkinson's new treatment (DBS) in Hindi [पार्किंसंस रोग नए उपचार]
चेतावनी: यह जानकारी केवल शिक्षण के लिए है. निदान और दवाई देना दोनों के लिए उचित डॉक्टर से स्वयं मिले। उचित डॉक्टर से बात किये बिना आपकी दवाइयां ना ही बढ़ाये ना ही बंद करे!!

डॉ सिद्धार्थ खारकर

डॉ  सिद्धार्थ खारकर को "आउटलुक इंडिया" और "इंडिया टुडे" जैसी पत्रिकाओं ने मुंबई के जाने-माने न्यूरोलॉजिस्ट्स में से एक के तोर पे पहचाना है.

डॉक्टर सिद्धार्थ खारकर न्यूरोलॉजिस्ट, मिर्गी  (एपिलेप्सी) विशेषज्ञ और पार्किंसंस विशेषज्ञ है।

उन्होंने भारत, अमेरिका और इंग्लॅण्ड के सर्वोत्तम अस्पतालों में शिक्षण प्राप्त किया है।  विदेश में  कई साल काम करने के बाद, वह भारत लौटे, और अभी मुंबई महरारष्ट्र में बसे है।

डॉक्टर सिद्धार्थ खारकर अंतरराष्ट्रीय पार्किंसंस और मूवमेंट डिसऑर्डर सोसाइटी के एक संशोधन गट के अंतरराष्ट्रीय संचालक है.

फोन 022-4897-1800

ईमेल भेजे

2 thoughts on “पार्किंसंस का अर्थ (Parkinson’s disease meaning in Hindi)”

  1. Namaste sir . mera name arun jain he. Me jaipur Rajasthan se hu . 2009 se Parkinson face kr raha hu . 2019 October Me mera d b s aiims Delhi se huaa he . but Jo mene socha tha waisa result nhi mila. 40 50℅ effect he..
    After dbs me abhi syndopa 275 mg 4 time .amantral 100 mg 2. 3 time rasalect 1 mg 4 time le raha hu. But me abhi bhi 60 ℅ hi theek feel krta hu

    Reply
    • I think you can try DBS reprogramming. Increasing the DBS current strength, or the exact electrodes which are stimulated can help. Please contact a neurologist for reprogramming.

      मुझे लगता है, के आपने DBS का करंट बदलने के बारे में सोचना चाहिए। करंट बढ़ने से, या फिर वह करंट किन जगहों पे दिया जा रहा है वो बदलने से, पार्किंसंस के उपचार में फायदा हो सकता है. DBS प्रोग्रामिंग करने वाले डॉक्टर से संपर्क करे.

      Reply

Leave a Comment

India Today Magazine - 2021Noted as one of the Best Neurologists in Mumbai